Me & You - 15

ऐ जिंदगी तेरे लम्हों का, इम्तेहा भरी साँसों का.. गुजर चुके हम कईयों से, कुछ का अभी बाकी है.. लम्हे कुछ प्यार भरे, और कभी तनहा से.. वक्त हमेशा कहता है, इंतजार अभी बाकी है.. कोई किसी से क्या कहे, ओर कोई क्या सुने.. बात जरा सी उलझन में, सुलझना अभी बाकी है.. अहसास लिपटा सीने में, भरम तेरे होने का.. देता है सदा कभी, के जीना अभी बाकी है..

No comments:

Post a Comment

Me & You - 75

काही गोष्टी आतवर उतरून सहजपणे तळ ढवळून काढतात.. त्रास देत नाहीत, आठवणी जरा वर तरंगत आणतात.. दुःखद आठवणी पण आवडतात मला.. मनात सलत नाही ते...