Me & You - 15

ऐ जिंदगी तेरे लम्हों का, इम्तेहा भरी साँसों का.. गुजर चुके हम कईयों से, कुछ का अभी बाकी है.. लम्हे कुछ प्यार भरे, और कभी तनहा से.. वक्त हमेशा कहता है, इंतजार अभी बाकी है.. कोई किसी से क्या कहे, ओर कोई क्या सुने.. बात जरा सी उलझन में, सुलझना अभी बाकी है.. अहसास लिपटा सीने में, भरम तेरे होने का.. देता है सदा कभी, के जीना अभी बाकी है..

No comments:

Post a Comment

Me & You - 73

कधी जर मी बहकले, आणि चुकून तुझे नाव ओठी आले, तर फक्त एक स्मितहास्य कर, आणि नाकारून टाक मला पूर्णपणे ! तशीही मी कुणीच नाहीये नं..